अनुशासन पर संस्कृत निबंध | Essay on Anushasan in Sanskrit

हेलो दोस्तों आज की इस पोस्ट में मैं आपको अनुशासन पर निबंध संस्कृत में बताने वाले हो दोस्तों अगर आप भी स्कूल की छात्र है और आपको अनुशासन पर निबंध चाहिए वह भी संस्कृत में तो आप के लिए यह पोस्ट काफी बेहतरीन साबित हो सकता है बिजली जानते हैं अनुशासन पर निबंध संस्कृत में।




अनुशासन पर संस्कृत निबंध | Essay on Anushasan in Sanskrit

शासनस्य अनुकुलम् आचरणमेव अनुशासन कथ्यते। अस्माकं जीवने अनुशासनस्य महती आवश्यकता अस्ति। यथा शरीरस्य रक्षणाय भोजनम् आवश्यक बौद्धिक विकासाथ ज्ञानम आवश्यकं भवति तथैव आदर्शजीवनाय अनुशासनम् आवश्यकम् अस्ति। तेन बिना जीवन निष्फलं भवति । वाल्यकालात् आरभ्य वृद्धत्वं यावत् अनुशासनम् अतिआवश्यकम् अस्ति। अनुशासनेन एव देश: श्रेष्ठ भवति, समुन्नतिं गच्छति। अनुशासनेन एवं श्रीरामः लोकनायकः मर्यादा पुरुषोत्तमः अभवत् । अनुशासनकारणात एवं राष्ट्रीय स्वयंसेवकसंघः इदानों विश्वप्रसिद्धः जातः। यदि यम् अनुशासिताः भवामः तर्हि स्वकीपगृह ग्राम राज्य देश विश्वञ्च अनुशासितान् कर्तुं शक्नुमः। राष्ट्रस्य उत्थानाय सर्वेषु क्षेत्रेषु अनुशासनं परमावश्यकम् अस्ति।


Other Post :-

एक टिप्पणी भेजें

Post a Comment (0)

और नया पुराने

ads

ads